उत्तराखंड: “वैली ब्रिज” चीन सीमा को सड़क से जोडऩे वाला पुल टूटा

पिथौरागढ़. भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क. उत्तराखंड के सीमांत जनपद पिथौरागढ़ के मुनस्यारी तहसील में चीन सीमा को जोडऩे वाले मुनस्यारी-मिलम सड़क मार्ग पर सेनरगाड़ पर बना वैली ब्रिज आज सोमवार 22 जून की पूर्वाह्न नौ बजे टूट गया. पुल टूटने की घटना उस समय हुई, जब पुल से एक ट्राला पोकलैंड मशीन लेकर गुजर रहा था.

हादसे के बाद ट्राले पर लदी पोकलैंड मशीन नदी में समा गई. इस महत्वपूर्ण पुल के टूटने से दोनों ओर आवाजाही ठप हो गई है. हादसे में ट्राला चालक गोवर्धन सिंह निवासी लमगड़ा अल्मोड़ा और पोकलैंड ऑपरेटर लखविन्दर सिंह निवासी पंजाब गंभीर रूप से घायल हो गए, जिनका उपचार स्वास्थ्य केंद्र मुनस्यारी में चल रहा है.

गौरतलब है कि इन दिनों चीन सीमा को जोडऩे वाली मिलम सड़क को काटने का काम जोरों पर है, इसलिए भारी भरकम मशीनों को बॉर्डर पर पहुंचाया जा रहा है. हादसे की सूचना पर स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और वाहन चालक और परिचालक को अस्पताल पहुंचाया. चिकित्सकों का कहना है कि दोनों घायलों के स्वास्थ्य में सुधार है. फिलहाल इस महत्वपूर्ण पुल के टूटने से चीन सीमा से संपर्क कट गया है. इससे सीमा पर तैनात भारतीय सेना और आईटीबीपी की दिक्कतें बढ़ गई हैं. इसी रास्ते से भारतीय जवानों को रसद सामग्री बॉर्डर पर पहुंचाया जाता है.

यह महत्वपूर्ण पुल टूटने से सीमांत के दो दर्जन से अधिक माइग्रेशन गांवों का भी मुनस्यारी मुख्यालय से संपर्क टूट गया है. पुल के टूटने से धापा, क्वीरीजिमिया, साईपोलो, लीलम, बुईपातों सहित मल्ला जोहार के मिलम, विल्जू, बूर्फू टोला पांछू, लास्पा, गनघर, खिलाच रिलकोट गांव का संपर्क टूट गया है.

स्थानीय जन प्रतिनिधियों का कहना है कि वाहन चालक को पुल पर चढऩे से पहले ही खतरे से अगाह भी किया गया लेकिन वह नहीं माना. यहां के लोगों ने कम्पनी से पूरा पैसा वसूल करने और दोषियों के विरुद्ध कठोर कानूनी कार्यवाही करने की मांग की है. इन लोगों का कहना है कि इसी मार्ग से जोहार घाटी में जाते हैं. नीचे से अन्य मार्ग भी बन्द हैं. ऐसे में जोहार को जोडऩे वाले इस पुल का बरसात के समय बनना चुनौतीपूर्ण भी है.

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *