पुणे में एक बार फिर लॉकडाउन का संकेत

जिलाधिकारी ने कहा : तेजी से बढ़ रही हैं मरीजों की संख्या कड़ा निर्णय लेने का समय

लवकुश तिवारी वरिष्ठ पत्रकार
पुणे, 6 जुलाई. भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क
: लगातार साढे 3 महीने से अधिक समय तक लॉकडाउन का शिकार रहे पुणे शहर और पुणे जिले पर एक बार फिर लॉक डाउन की तलवार लटकने लगी है. जिले में एक बार फिर लॉक डाउन करने का संकेत आज जिलाधिकारी नवल किशोर राम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए दिया.

जिलाधिकारी नवल किशोर राम ने पत्रकारों को बताया कि पुणे शहर, पिंपरी चिंचवड़ ,तीनों कंटोनमेंट बोर्ड क्षेत्र और शहर से सटे ग्रामीण इलाके के अधिकांश इलाकों में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है जिस पर नियंत्रण करना प्रशासन के लिए टेढ़ी खीर साबित हो हो रहा है.इसे देखते हुए प्रशासन को मजबूरी में अब कड़े कदम उठाने होंगे.
जिलाधिकारी ने एक बार फिर से लॉकडाउन किए जाने का संकेत देते हुए कहा कि जिला प्रशासन को लॉक डाउन करने का अधिकार नहीं है लॉकडाउन का आदेश राज्य सरकार की ओर से जारी किया जाता है किंतु इस संबंध में जिला प्रशासन अब कड़ा निर्णय लेगा.
समझा जाता है कि जिला प्रशासन जिले में लॉक डाउन करने के लिए अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को जल्द ही भेजेगा जिस पर राज्य सरकार की ओर से निर्णय लिया जाएगा. राज्य के कई शहरों में लॉकडाउन दुबारा किया गया है इसे देखते हुए यह तय माना जा रहा है कि जिस प्रकार पुणे में कोरोना वायरस का संक्रमण फैल रहा है उससे निश्चित रूप से जल्द ही पुणे में एक बार फिर लॉक डाउन होने जा रहा है.
आपको बता दें कि इसी संवाददाता सम्मेलन में जिलाधिकारी राम ने कहा कि साधारण लक्षण वाले कोरोना पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल जाने की आवश्यकता नहीं है वह अपने घरों में क्वारंटाइन रहकर इलाज का लाभ ले सकते हैं. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं उसे देखते हुए सभी लोगों को अस्पतालों में भर्ती कर उपचार दे पाना संभव नहीं हो पा रहा है इसलिए जिनके पास घरों में कमरे मौजूद हैं वह लोग अपने घर पर ही रह कर उपचार का लाभ लें . हां जिन गरीबों के पास एक ही कमरा है उसमें पूरे परिवार को रहना है ऐसे लोगों को अस्पताल में उपचार लाभ दिया जाएगा.
इसी संबंध में पुणे के विभागीय आयुक्त डॉ दीपक म्हैसेकर ने कहा कि जो क्रिटिकल मरीज है गंभीर रोगी हैं उन्हीं लोगों को अस्पताल में भर्ती किया जा रहा है हां यदि कोई होम क्वॉरेंटाइन है और उसकी तबीयत बिगड़ती है तो तुरंत उसे अस्पताल ले जाया जाएगा और वहां उपचार लाभ दिया जाएगा.
गौरतलब है कि प्रशासन की ओर से इस प्रकार का बयान आने का सीधा मतलब यह निकाला जा सकता है कि पुणे में अब कोरोना का सामुदायिक प्रसार शुरू हो गया है जिसके लिए शहर के अस्पताल कम पड़ रहे हैं. यह स्थिति अगले कुछ दिनों में और भी भयावह होने वाली है क्योंकि इसी संवाददाता सम्मेलन में पुणे महानगरपालिका आयुक्त शेखर गायकवाड ने कहा कि इस महीने के अंत तक अकेले पुणे महानगर पालिका क्षेत्र में 20 हजार से अधिक पॉजिटिव मरीज बढ़ने की प्रबल संभावना है. हालांकि उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए होगा क्योंकि पुणे महानगरपालिका विशेष प्रकार की टेस्टिंग शुरू कर चुकी है इससे मरीजों की संख्या बढ़ रही है किंतु इस तथ्य से इनकार नहीं किया जा सकता कि जब शहर में लोग कोरोना पॉजिटिव हो रहे हैं तभी तो यह संख्या बढ़ रही है और यह संख्या आगे भी लगातार बढ़ती रहेगी .
बढ़ते हुए कोरोना प्रसार को रोकने के लिए प्रशासन के पास अब सिर्फ एक ही विकल्प बचा है पुणे शहर पिंपरी चिंचवड़ शहर तीनों कंटोनमेंट बोर्ड क्षेत्र समूचा जिला परिषद क्षेत्र यानी कि समूचे पुणे जिले में लॉक डाउन की घोषणा की जाए और कर्फ्यू लगाते हुए उसका कड़ाई से अनुपालन किया जाए.
जिला प्रशासन इस दिशा में अब एक बार फिर गंभीरता से सोच रहा है इस संबंध में जिलाधिकारी नवल किशोर राम ने कहा है कि पुणे शहर और पुणे जिले के लोग कोरोना संक्रमण की इतनी भयावह स्थिति होने के बावजूद भी गंभीर नहीं हो रहे हैं.अभी भी लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कम कर रहे हैं अनेक लोग आज भी ऐसे हैं जो मास्क नहीं लगाते हैं. सैनिटाइजर का भी प्रयोग नहीं करते हैं शासन द्वारा समय-समय पर जारी किए जा रहे दिशा निर्देशों का भी खुलेआम उल्लंघन करते हैं यदि ऐसा ही रहा तो स्थिति नियंत्रण के बाहर हो जाएगी इसलिए जिला प्रशासन जल्द ही समूचे जिले के लिए कड़ी कार्रवाई करने की अनुशंसा करने वाला है.
हालांकि जिलाधिकारी ने कहा कि मृत्यु दर पर काफी हद तक नियंत्रण पा लिया गया है और इसे हम और भी कम करने की कोशिश में लगे हुए हैं किंतु यदि बात संक्रमण की करें तो अब इसके लिए कठोर कार्रवाई की आवश्यकता है उन्होंने मीडिया से भी कहा कि समाज में जागरूकता लाने का मीडिया प्रयास करें जिससे इस आपदा से बाहर निकला जा सके.
बहर हाल लंबे समय तक लॉकडाउन के शिकार रहे पुणे शहर और पुणे जिले के लोगों को इस मुसीबत से छुटकारा मिले अभी चंद दिन ही हुए हैं कि एक बार फिर लॉकडाउन और कर्फ्यू जैसी स्थिति उनके सामने बनने की प्रबल संभावना बढ़ गई है.

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *