सत्य प्रकाश तिवारी को मिली पीएचडी की उपाधि

मां बाप को मिली खुशी जिले का नाम किया रोशन

राकेश यादव विशेष संवाददाता भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क।

बल्दीराय/सुलतानपुर। सुल्तानपुर जिले के तहसील बल्दीराय अंतर्गत समरथपुर ग्राम पंचायत के पूरे मोहनलाल तिवारी के सत्य प्रकाश तिवारी को पीएचडी की उपाधि प्राप्त हुई। बताते चलें कि डॉ शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय लखनऊ द्वारा प्रथम पीएचडी उपाधि प्रदान की गई। डॉ शकुंतला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय लखनऊ के कुलपति प्रोफेसर राणा कृष्णपाल सिंह द्वारा विश्वविद्यालय में निरंतर किए जा रहे सुधारों के परिणाम स्वरुप डॉ अशोक कुमार मिश्र असिस्टेंट प्रोफेसर भौतिक विज्ञान के कुशल निर्देशन में सत्य प्रकाश तिवारी पुत्र राम तेज तिवारी को भौतिक विज्ञान में पीएचडी की उपाधि शोध शीर्षक कम्प्यूटेशनल स्टडी ऑफ सम नेचुरली अकरिंग बायो मॉलिक्यूल्स पर प्रदान की गई।

उल्लेखनीय है कि यह इस विश्वविद्यालय द्वारा प्रदान की जाने वाली प्रथम पीएचडी उपाधि है। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राणा कृष्णपाल सिंह ने प्रसन्नता व्यक्त की और निर्देशक एवं शोधार्थी को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना किया।

इस शोध के दौरान शोधार्थी ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के लिस्टेड जनरल एससीआई स्कोपस और वेब आफ साइंस इंडेक्स्ड जैसे प्रतिष्ठित जनरल में कुल 9 शोध पत्र प्रकाशित किया है।

उक्त शोधार्थी के शोध हेतु लिए गए कुछ जैविक अणुओं में कोविड-19 वायरस के विरुद्ध एक सशक्त प्रतिरोधक का गुण भी प्रकाश में आया है। जो कार्नेल यूनिवर्सिटी अमेरिका के एआरएक्सआईवी डॉट ओआरजी पर हाल ही में प्रकाशित हुआ।

इस अवसर पर कुलपति ने शोध उपाधि के संबंध में प्रोफेसर हिमांशु शेखर झां परीक्षा नियंत्रक डॉ अमित कुमार राय रजिस्ट्रार अमित कुमार सिंह विशेष कार्याधिकारी शोध प्रकोष्ठ डॉ अशोक कुमार मिश्र एवं शोध प्रकोष्ठ के सभी सदस्यों द्वारा पीएचडी प्रक्रिया को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के विनियम एवं विश्वविद्यालय के पीएचडी अध्यादेश के अधीन संचालित करने में किए गए कार्यों की सराहना की।

इस अवसर पर उक्त सभी सदस्यों ने कुलपति द्वारा शोध कार्यों को बढ़ावा देने हेतु समय-समय पर दिए गए दिशा निर्देशन के लिए कुलपति के प्रति आभार व्यक्त किया एवं कुलपति के नेतृत्व में कार्य करते हुए विश्वविद्यालय को विशिष्ट पहचान देने हेतु संकल्प व्यक्त किया।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *