समुद्र में क्रूज शिप्स पर्यटन को बढ़ावा देने सरकार ने की पोर्ट टैरिफ में 70 प्रतिशत तक की कटौती

नई दिल्ली.भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क. समुद्र में क्रूज शिप्स पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये केंद्रीय शिपिंग मंत्रालय ने क्रूज शिप्स पर लगने वाले टैरिफ को घटा दिया गया है. इन शिप्स के पोर्ट चार्जेज में 60 से 70 प्रतिशत तक की कटौती की गई है. क्रूज शिप्स के पोर्ट चार्जेज अब 0.085 डॉलर प्रति जीआरटी चार्ज किए जाएंगे. अभी यह 0.35 डॉलर है. यह रेट पहले 12 घंटों तक रुकने के लिए होगा. साथ ही प्रति पैसेंजर 5 डॉलर हेड टैक्स के तौर पर होगा. पोट्र्स पर अब बर्थ हायर, पोर्ट ड्यू, पाइलटेज, पैसेंजर फीस आदि नहीं चार्ज किए जाएंगे.

12 घंटे से अधिक की अवधि के लिए क्रूज शिप्स के लिए फिक्स्ड चार्ज बर्थ हायर चार्ज के बराबर ही होगा. यह शेड्यूल ऑफ रेट्स के आधार पर ही होगा. इसमें क्रूज शिप्स के लिए पहले से तय 40 प्रतिशत की छूट भी मिलेगी.

बताया जा रहा है कि इसके अतिरिक्त प्रति वर्ष 1 से 50 कॉल्स वाले क्रूज शिप्स को 10 प्रतिशत की रियायत भी दी जाएगी. प्रति वर्ष 51 से 100 कॉल्स वाले क्रूज शिप्स के लिए 20 प्रतिशत की रियायत मिलेगी. वहीं एक साल में 100 से ज्यादा कॉल्स वाले क्रूज शिप्स के लिए 30 प्रतिशत की रियायत दी जाएगी.

नये टैरिफ को तत्कालू रूप से लागू कर दिया गया है और यह अगले एक साल के लिए होगा. भारतीय पोट्र्स पर 2015-16 के बाद क्रूज शिप्स के लिए कॉल्स की संख्या तेजी से बढ़ी है. वित्त वर्ष 2015-16 में यह 128 थी, जो कि 2019-20 में यह बढ़कर 593 तक पहुंच चुकी है. मंत्रालय ने कहा कि नये टैरिफ को पहले से अधिक तार्किक बनाने से यह सुनिश्चित हो सकेगा कि भारतीय पोट्र्स पर क्रूज कॉल की संख्या कम न हो.

शिपिंग मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा कि इससे बड़े स्तर पर फॉरेन एक्सचेंज प्राप्त करने का मौका मिलेगा और साथ ही पोट्र्स पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार के मौके भी मिलेंगे. इससे देश में क्रुज टूरिज्म को भी बढ़ावा मिल सकेगा.

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *