पुणे में 28 फरवरी तक स्कूल कॉलेज बंद

कोरोना के चलते फिर लागू हुआ नाइट कर्फ्यू

पुणे, भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क ब्यूरो रिपोर्ट : सावधान! पुणे शहर सहित समूचे जिले में एक बार फिर कोरोना कहर बनकर टूट रहा है जिसके चलते पुणे के सभी स्कूल कालेज आगामी 28 फरवरी तक बंद कर दिए गए हैं। इतना ही नहीं पुणे और पिंपरी चिंचवड शहर में रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक का नाइट कफ्र्यू लागू कर दिया गया है। हालांकि इसे पूर्ण कफ्र्यू न कहते हुए इसे ‘ नियंत्रित संचार ‘ नाम दिया गया है किंतु इस नियंत्रित संचार के दौरान अत्यावश्यक कार्य से ही बाहर निकलने की अनुमति होगी। रेलवे स्टेशन और एसटी बस स्टैंडों पर उतरने वालों के लिए और सुबह दूध, अखबार जैसे अत्यावश्यक सेवाओं को इस नियंत्रित संचार बंदी से छूट दी गई है।


इस संबंध मंे पुणे के विभागीय आयुक्त सौरभराव ने आज एक आॅनलाइन संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उक्त जानकारी दी और बताया कि, पुणे जिले में कोरोना के बढते प्रकोप को ध्यान में रखते हुए आज पुणे के पालकमंत्री अजित दादा पवार के साथ पुणे जिला प्रशासन के सभी विभागांे के उच्चाधिकारियों की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई जिसमें उक्त निर्णय लिया गया।


पुणे के पालकमंत्री अजीत दादा पवार की अध्यक्षता में संपन्न हुई बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए और कोरोना के कारण पुणे निवासियों पर फिर से कुछ प्रतिबंध लगाए गए। पुणे में रात 11 बजे के बाद बाहर जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है,स्कूल और कॉलेज 28 फरवरी तक बंद रहेंगे। पिछले कुछ दिनों से पुणे शहर और जिले में कोरोना रोगियों की संख्या बढ़ रही है। इसे देखते हुए राजनीतिक कार्यक्रमों को आयोजित करने और अन्य सामाजिक धार्मिक व विवाह समारोह में 200 नागरिक शामिल होने के लिए पुलिस की अनुमति लेना अनिवार्य किया गया है।

कोरोना की तीसरी लहर शुरु हो चुकी है। कोरोनरी हृदय रोगियों की संख्या आरंभ में 4 प्रतिशत थी। अब यह 10 प्रतिशत हो गई है। इसलिए उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने विशेष उपाय करने के निर्देश दिए हैं।


विभागीय आयुक्त ने बताया कि यद्यपि स्कूल और कॉलेज 28 फरवरी तक बंद रहेंगे फिर भी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपस्थित होने वाले छात्रों के अध्ययन वर्गों को 50 प्रतिशत क्षमता पर चलाए जाने की छूट दी जा रही है। उन्हांेने कहा कि होटलों को रात 11 बजे तक ही खुला रखने की अनुमति है और रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक संचारबंदी रहेगी। हालांकि इस दौरान आवश्यक वस्तुओं के परिवहन की अनुमति दी गई है। यह सुनिश्चित करने के लिए विशेष ध्यान रखा जाएगा कि ट्रांसपोर्टरों को कोई असुविधा न हो।


उन्होंने बताया कि, नागरिकों की अधिक से अधिक कोरोना जांच करने पर जोर दिया गया है। कोरोना काल में तहसील स्तरीय कोविड केंद्र की स्थापना की गई थी अब उन्हें पुनः सक्रिय किया जाएगा। भविष्य में रोगियों की संख्या बढ़ने पर जंबो कोविड केंद्र शुरू किया जाएगा लेकिन नागरिकों को सभी नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। नियमों का पालन न करने वालों पर कठोर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।


कोरोना बैठक के प्रमुख निर्णय


1)रात 11 से सुबह 6 बजे तक कडा नाइट कर्फ्यू
2)सभी सरकारी, अर्ध सरकारी, प्राइवेट स्कूल कालेज 28 फरवरी तक बंद
3)होटल रेस्त्रा, बार रात 11 बजे के बाद रहेंगे बंद
4)कोचिंग क्लासेस भी रहेंगी बंद
5)विवाह के लिए सिंगल विंडो से दो घंटे में अनुमति मिलेगी़
6)सोमवार 22 फरवरी से अमल में लाया जाएगा यह आदेश।
7)जिले के 73 प्रतिशत स्वास्थ्य कर्मचारियों को टीका लगाने का काम पूर्ण, 50 प्रतिशत फ्रंट लाईन वर्करों को टीका लगा
8)नागरिकों में जनजागृति अभियान बडे पैमाने पर शुरु करने का निर्णय
9)हॉटस्पॉट अनियंत्रित परिसर होंगे सील
10 पुराने हाॅट स्पाॅट एरिया में ही बढे हैं कोरोना केसेस

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *