Mp/बरही थाना अंतर्गत 19/05 को मिडरा में हुई हत्या के आरोपी को पकड़ने में मिली सफलता -अंकित मिश्रा थाना प्रभारी बरही जिला कटनी

राहुल त्रिपाठी मंडलीय ब्यूरो जबलपुर की रिपोर्ट

कटनी। भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क। कटनी एसपी ललित शाक्यवार अतरिक्त पुलिस अधीक्षक संदीप मिश्रा sdop शिखा सोनी जी के मार्गदर्शन में बरही थाना प्रभारी अंकित मिश्रा जी के नेतृत्व में बनी टीम ने अंधे कत्ल के आरोपी को पकड़ा।

मामला यह था कि खितौला उपथाना को दिनांक 19/05 सुबह 11:30 बजे राम किशोर सिंह गोंड पिता संपत सिंह निवासी मिडरा ने सूचना दी थी कि मेरे पिता संपत सिंह उम्र 55 साल मिडरा के कछरा हार में रहते थे। वहाँ खेती किसानी का कार्य करते थे। सुबह प्रार्थी की माँ श्रीमती नान बाई गोड पिता को देखने खेत कछरा हार आई थी। प्रार्थी अपनी माँ को रोते सुनकर मा के पास जाकर रोने का कारण पूछा तो माँ ने बताया की तुम्हारे पिताजी को किसी ने मार डाला है ऐसा सुनकर प्रार्थी झोपड़ी में जाकर देखा तो उसके पिता की लाश खून से शनी हुई जमीन पर पड़ी थी। मृतक के सिर माथे वा गले मे धारदार हथियार से वार कर उन्हें मारा गया था।

उपरोक्त घटना की सूचना खितौली चौकी प्रभारी ने मिलते ही बरही थाना प्रभारी, sdop सहित बरिष्ठ अधिकारियों को देकर अपराध क्रमांक 157/20 धारा 302 कायम कर घटना इस्थल का निरीक्षण किया। चौकी प्रभारी के साथ बरही थाना प्रभारी श्रीअंकित मिश्रा, sdop शिखा सोनी वैज्ञानिक अधिकारी श्री अवनीश सिसोदिया जी के साथ पुलिस स्टाफ मौजूद था।

घटना इस्थल पर मौका निरीक्षण में प्राप्त साक्ष्य वा मौके पर उपस्थित लोगों से कथन बयान लेकर बिबेचना सुरु की गई। जिसमें पाया गया कि मृतक के साथ रामबाबू सिंह का उठना बैठना वा साथ ही पीना भी होता था।

मृतक को जंगली जानवर ने मारा है ऐसी अफवाह छेत्र में रामबाबू के द्वारा फैलाई गई थी जिसे आधार मानकर रामबाबू की तलाश सुरु की गई सूचना मिली थी कि रामबाबू अतरिया के जंगल मे छिपा है। सूचना मिलते ही पुलिस ने घेराबंदी करके रामबाबू को गिरफ्तार कर पूछ ताछ सुरु की।

पूछताछ में खुलासा हुआ कि रामबाबू और मृतक संपत सिंह घटना दिनांक के पहली शाम को (18/05)साथ मे बैठकर दारू पी रहे थे। दारू पीने के बाद रामबाबू ने अपने हिस्से की जलाऊ लकड़ी मांगी(लकड़ी संपत सिंह और रामबाबू ने मिलकर इकट्ठा की थी आरोपी के बताए अनुसार) तो संपत सिंह ने लकड़ी देने से मना कर दिया। जिससे मुझे गुस्सा आई और मै पास मे रखी कुल्हाड़ी उठाकर संपत सिंह को 5-6 बार मारा। मारने के बाद रामबाबू अपने पहने हुए कपड़े वा कुल्हाड़ी को झाड़ी में छिपा कर फरार हो गया था जिन्हें जप्त किया जा चुका है।

आरोपी रामबाबू ने पूछताछ में संपत सिंह की हत्या करने का जुर्म सुइकार किया है। जुर्म सुइकार करने के बाद आरोपी रामबाबू सिंह गोड को न्यायालय में पेश किया गया है।

संपत सिंह के हत्यारे को पकड़ने में बरही थाना प्रभारी अंकित मिश्रा, उप निरीक्षक मीनाक्षी पेन्द्रे, चौकी प्रभारी सुनील जाटव,हवलदार महेश प्रताप सिंह , अजय सायबर सेल कटनी , की अहम् भूमिका रही।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *