खंडहर में तब्दील होता ग्राम पंचायत सिजई का पंचायत भवन

प्राशानिक उदासीनता के कारण ग्राम पंचायत सिजई का पंचायत भवन खण्डहर में तब्दील हो रहा

लवकुशनगर। भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क। स्वच्छता के सरकार बड़े-बड़े दावे करती है लेकिन ग्राम पंचायत सिजई में स्वच्छता के दावे खोखले साबित नजर आ रहे हैं ग्राम पंचायत सिजई के पंचायत भवन की हालत बद से बदतर होती नजर आ रही है तो पूरे ग्राम पंचायत का क्या खाक बिकाश हो गया। ग्राम पंचायत सरपंच, सचिव और रोजगार सहायक अपने अपने घरों से ही पंचायत के कार्यों को करते हैं ।

पंचायत भवन में नही होती सभा, बैठक या कोई आयोजन

वहीं ग्रामीणों का कहना है की ग्राम पंचायत में ना तो कोई आयोजन होता है ना पंचायत लगाई जाती है और ना ही सरपंच सचिव और रोजगार सहायक पंचायत में कभी जाते हैं । जब कार्यालय में कर्मचारी नही जायेगे तो कैसे ग्राम का बिकाश हो सकता है यह एक बड़ा सवाल है ।

पंचायत भवन में जम आई झाड़ियां , चारा

ग्राम पंचायत की तस्वीर साफ आईने की तरह बयां कर रही है की पंचायत भवन में बड़े-बड़े चारा के पेड़  जम गए है इससे यह प्रतीत होता है कि कई महीनों से ग्राम पंचायत का ताला भी नहीं खोला गया है,  एक बड़ा सवाल यह भी होता है कि कोरोना जैसी महामारी में ग्राम पंचायतों के ऊपर पूरे ग्राम का दारोमदार था क्या उस दौरान कोई भी सक्षम अधिकारी निरीक्षण करने ग्राम पंचायत नहीं गया, यदि सक्षम अधिकारी गया होता तो क्या पंचायत भवन नही पहुचे होंगे यह एक बड़ा सवाल है । इससे अधिकारियों सहित ग्राम पंचायत सरपंच, सचिव और रोजगार सहायक की भारी लापरवाही सामने नजर आ रही है ।

ग्राम में गंदगी का अंबार

जब पंचायत भवन की ही हालत खराब है चारो तरफ चार गंदगी का अम्बार है तो ऐसे में ग्राम कैसे स्वच्छ रहेगा । ग्राम पंचायत में गंदगी का अंबार लगा हुआ, नालियों का गंदा पानी रोडो में बह रहा, कचड़ा के बड़े बड़े ढेर पूरे ग्राम में अब तो आलम यह है कि वहां पर गंदगी और बदबू जे कारण लोगो का रहना मुश्किल हो रहा है।
Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *