कचहरी क्लब में अवैध पार्किंग निर्माण के विरुद्ध पूर्वांचल सेना अध्यक धीरेन्द्र प्रताप करेंगे अनिश्चित कालीन भूख हड़ताल

प्रशाशन को रजिस्टर्ड डाक द्वारा पत्र भेजकर दिया 2 दिन का अल्टीमेटम

गोरखपुर। भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क। शहर के मध्य बचे हुए एकमात्र मैदान कचहरी क्लब में सार्वजनिक स्थाई पार्किंग निर्माण के खिलाफ पूर्वांचल सेना ने भूख हड़ताल करने का निर्णय लिया है ।
इस बाबत जानकारी देते हुए पूर्वांचल सेना अध्यक्ष धीरेन्द्र प्रताप ने बताया कि जिला प्रशासन बिना पार्किंग के चल रहे हैं शिवाय होटल और बिना पार्किंग की व्यवस्था के चल रहेपूर्वांचल की सबसे बड़ी दवा मंडी “भालोटिया मार्केट” के चंद व्यपारियो की सुविधा के लिए पूरे कचहरी क्लब के मैदान को बर्बाद करने पर उतारू है । उन्होंने कचहरी क्लब मैदान के यथावत बने रहने के फायदे के बारे में बताते हुए कहा कि 2015 में आए भूकंप के दौरान क्षेत्र में रहने वाले लोगों ने इसी मैदान में शरण लिया था, यह मैदान सांस्कृतिक सामाजिक और खेलकूद के कार्यक्रमों के लिए शहर में बचा हुआ एकमात्र मैदान है, इसमें पार्किंग बनाना मैदान को खत्म करने की साजिश है । उन्होंने कहा कि जाम की समस्या का बहाना लेकर पार्किंग निर्माण कर रहे जिला प्रशासन के मन में खोट है, यदि प्रशासन सचमुच जाम की समस्या से इस एरिया को निजात दिलाना चाहती हैं तो बिना पार्किंग के चल रहे हैं शिवाय होटल को सील कराएं पूर्वांचल की सबसे बड़ी दवा मंडी भालोतिया मार्केट को नेशनल हाईवे से जुड़े किसी अन्य जगह पर स्थानांतरित करें और टाउन हॉल पर मानक के विपरीत स्थापित पेट्रोल पंप को हटाने जैसे कार्य करे, तभीे इस क्षेत्र से जाम की समस्या को समाप्त किया जा सकता है । परंतु प्रशासन ऐसा न करके कुछ चंद उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए शहर के सार्वजनिक मैदान को बर्बाद करने पर उतारू है । हम इसको कत्तई बर्दाश्त नहीं करेंगे ।

पूर्वांचल सेना जिलाध्यक्ष सुरेंद्र वाल्मीकि ने बताया कि 29 मई को हमने जिला प्रशासन को पार्किंग निर्माण पर रोक लगाने और मैदान को यथास्थिति में बनाए रखने की मांग की थी पर प्रशासन ने नहीं सुनी । अब हमारे पास आंदोलन के अलावा और कोई रास्ता नहीं है । उन्होंने बताया कि हमने आज प्रशासन को पत्र के माध्यम से अवगत करा कर 2 दिन का समय दिया है यदि काम जारी रहता है तो हम भूख हड़ताल पर बैठेंगे ।

उक्त जानकारी पूर्वांचल सेना के जिला अध्यक्ष सुरेंद्र वाल्मीकि ने एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से दी ।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *