जे.पी मॉर्गन के समर्थन से सिम्बायोसिस स्किल्स एंड प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में भविष्य की तकनीक पर कौशल प्रशिक्षण शुरू

1,000 छात्रों को प्रशिक्षित करने का उद्देश्य

 पुणे / मुंबई, भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क बिजनेस डेस्क: सिम्बायोसिस ओपन एज्युकेशन सोसायटी (एसओईएस) शिक्षा और कौशल विकास पर कार्य करनेवाला  शैक्षिक संस्थान है, जे.पी मॉर्गन के सहयोग से सिम्बायोसिस ने 1,000  छात्रों को प्रशिक्षित करने की योजना बनाई है. यह प्रशिक्षण सिंबायोसिस स्किल्स एंड प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी पुणे की और से लिया जाएगा .जो छात्र ( मुख्यतहा छात्राएं) जिन्हें इस प्रकार का प्रशिक्षण उपलब्ध नहीं होता और जिन्हे नए तकनीक के क्षेत्र में करियर करने की इच्छा होती है उनके लिए यह एक सुनहर अवसर है.   


इस परियोजना को सिम्बायोसिस स्किल्स एंड प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, पुणे परिसर में कार्यान्वित किया जाएगा .प्रौद्योगिकी के कई क्षेत्रों में करियर करने की इच्छा रखनेवाले छात्र इसका लाभ ले सकते हैं.छात्रों को आवश्यक कौशल प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किए गए पाठ्यक्रम यहां उपलब्ध हैं. इन पाठ्यक्रमों में डेटा साइंस, मशीन लर्निंग, ऑटोमेशन, ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजीज और ऑगमेंटेड और वर्चुअल रियलिटी शामिल हैं. यह पाठ्यक्रम कई क्षेत्रों कें रोजगारदाताओं की उभरती ज़रूरतों को पूरा करके के लिए सक्षम है.
पुणे-मुंबई एक्सप्रेस वे, किवले स्थित सिम्बायोसिस स्किल्स एंड प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में उद्योग के विशेषज्ञों, नियोक्ताओं और शिक्षाविदों ने यह पाठ्यक्रम तैयार किए है. यहां छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए  कौशल-आधारित शिक्षा पद्धत्ती से सीखाया जाएगा. कौशल विकसित करना इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य होगा.  इन पाठ्यक्रमों को बाजार में उपलब्ध नौकरियों के दृष्टिकोण से तैयार किया गया है. पाठ्यक्रमों को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद छात्रों को रोज़गार के अवसर प्रदान करने के लिए मेन्टॉरिंग व प्लेसमेंट सहायता प्रदान की जाएगी.
 
यूनिवर्सिटी की प्रो-चांसलर डॉ. स्वाति मुजुमदार ने बताया, “यह छात्रों के लिए एक बेहतरीन अवसर है क्योंकि वर्तमान बाजार की स्थिति और कोविड के बाद की अवधि को ध्यान में रखते हुए पाठ्यक्रमों की पेशकश की गई है. छात्रों को रोज़गार के लिए सशक्त बनाने एवं उच्च तकनीक कौशल को विकसित करने के लिए यूनिवर्सिटी प्रतिबद्ध है. छात्रों के लिए यूनिवर्सिटी में यह पाठ्यक्रम विनामूल्य और पूर्णकालिक रूप से उपलब्ध है. ”


जे.पी मॉर्गन सीएसआर इंडिया की प्रमुख मनीषा चड्ढा ने कहा, “जे.पी मॉर्गन  वंचित पृष्ठभूमि के युवाओं रोज़गार के लिए आवश्यक प्रशिक्षण देने के लिए प्रतिबद्ध है. इस उपलब्धी के माध्यम से हम छात्रो्ं को प्रौद्योगिकी कौशल प्रदान करने का लक्ष्य रखते हैं, जो उन्हें भविष्य में एक विकासशील उद्योग की ज़रूरतों को पूरा करने में सक्षम बनाएगा “
 


 

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *