दिल्ली, गाजियाबाद और आस-पास लाक डाउन में फंसे लोगों के लिए देवदूत की भूमिका में हैं पूर्व एमएलसी अशोक सिंह

नई दिल्ली/ लखनऊ/ सुल्तानपुर, भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क ब्यूरो रिपोर्ट : दिल्ली, एनसीआर, गाजियाबाद और आस-पास के इलाकों में अमेठी और सुल्तानपुर के फंसे लोगों के लिए इन दिनों देवदूत की भूमिका में है उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर से पूर्व एमएलसी रहे अशोक सिंह.

भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क के संवाददाताओं ने जो जानकारी जुटाई है उसके अनुसार पूर्व एमएलसी अशोक सिंह इन दिनों दिल्ली व आस-पास फंसे सुल्तानपुर और अमेठी के लोगों को लेकर न केवल काफी चिंतित हैं बल्कि उन्हें वहां से निकालने के लिए हर संभव प्रयास और मदद भी कर रहे हैं.

भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क का सहयोग लेते हुए पूर्व एमएलसी अशोक सिंह ने अब तक हजारों लोगों से संपर्क किया और इसी अनुपात में उन्हें हर संभव मदद पहुंचाते हुए उन्हें उनके मूलगांव भी पहुंचाया. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के अंदर महरौली, छतरपुर, बदरपुर, संगम विहार आदि इलाकों में रहने वाले सुल्तानपुर और अमेठी के जरूरतमंद लोगों को भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क के संपर्क का सहयोग लेते हुए पूर्व एमएलसी अशोक सिंह और उनके कार्यकर्ताओं ने संपर्क किया और उन्हें खाद्यान्न किट व अन्य जरूरी सामानों की आपूर्ति की.

दिल्ली, एनसीआर, गाजियाबाद और आसपास के इलाकों में फंसे जिन लोगों ने भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क के माध्यम से पूर्व एमएलसी अशोक सिंह से संपर्क किया उन सभी लोगों को उनकी गांव पहुंचाने में अशोक सिंह ने महती भूमिका अदा की.

गौरतलब है कि सुल्तानपुर से पूर्व एमएलसी रहे अशोक सिंह मूल रूप से सुल्तानपुर उत्तर प्रदेश के निवासी हैं और जबसे कोरोना संक्रमण के चलते देश में लाक डाउन हुआ है वह रात दिन सक्रिय रूप से कार्य कर रहे हैं. इसके तहत उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, शीर्ष प्रशासकीय अधिकारियों आदि से संपर्क करते हुए लाक डाउन में फंसे प्रवासियों को उनके गांव पहुंचाने के लिए बसों और ट्रेनों का प्रबंध करवाया और यह सिलसिला आज भी बदस्तूर जारी रखा है.

श्री सिंह का कहना है कि जो लोग अभी भी लापता उनके कारण किसी भी प्रकार से परेशानियों का सामना कर रहे हैं उनकी हर संभव मदद कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *