भिंड में अवैध रेत उत्खनन व भंडारण चरम पर , प्रशासनिक अधिकारी बने मूक दर्शक!

ग्वालियर,मध्यप्रदेश / भगीरथ प्रयास न्यूज नेटवर्क ब्यूरो रिपोर्ट : भिंड जिले की अवैध रेत खदानों पर रेत माफियाओं की दबंगई कायम है। जिले में अवैध रेत उत्खनन व भंडारण का कार्य चरम पर है वहीं प्रशासनिक अधिकारी मूक दर्शक की भूमिका में बने हुए हैं। उल्लेखनीय है माइनिंग विभाग व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों द्वारा विभिन्न खदानों पर छापेमारी कर रेत डंप जप्त किए गए हैं इसे महज खानापूर्ति ही माना जाए उन जप्त रेत डंपो को प्रशासन द्वारा उठवाया नहीं गया इसी प्रकार ग्राम ककहरा थाना नयागांव में सिंध नदी से अवैध रेत उत्खनन व भंडारण का कार्य जोरों से जारी है जबकि ककहरा में अधिकृत खदान नहीं है।

सिंध नदी से मसीनों द्वारा अवैध रेत उत्खनन से किसानों की उपजाऊ जमीन बर्बाद हो रही है वहीं रेत माफियाओं की दबंगई के चलते किसान इनका विरोध नहीं कर पाते । अवैध रेत भंडारण गांव के पीछे खेतों में व सड़क के दोनों तरफ किया जा रहा है । सड़क के दोनों तरफ़ रेत का भंडारण होने से चलने वाले लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है तथा रेत के वाहनों से दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है। पिछले महीने ककहरा में माइनिंग व नयागांव थाना पुलिस की सहयुक्त कार्यवाही में जो रेत डंप जप्त की कार्यवाही की गई थी वो महज एक दिखावा साबित हो रही है रेत के डंप जप्त किए गए थे उन पर रेत माफियाओं द्वारा लगातार भंडारण का कार्य जोरों शोरों से चलाया जा रहा है। इसी प्रकार नयागांव थाना अंतर्गत आनेवाली अन्य रेत खदान जिनमें ओझा, तेहेंगुर, खोंजरा इनमें भी अवैध रेत उत्खनन किया जा रहा है । मीडिया के माध्यम से जिले में संचालित विभिन्न अवैध रेत खदानों की जानकारी समय समय पर माइनिंग विभाग के अधिकारियों तक पहुंचती है बावजूद इसके जिले में हो रहे अवैध रेत उत्खनन को पूरी तरह नजर अंदाज करना संदेह के घेरे में है प्रदेश सरकार को इस और ध्यान देना चाहिए।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *