बेंगलुरू हिंसा में 3 की मौत, 50 से अधिक पुलिसकर्मी घायल, सीआरपीएफ तैनात,लगा कफ्र्यू

बेंगलुरु.भगीरथ प्रयास न्यूज़ नेटवर्क. कर्नाटक की राजधानी बंगलूरू में मंगलवार रात कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के भतीजे द्वारा कथित रूप से भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट डालने के बाद हिंसा भड़क गई. हालात इस कदर बिगड़ गए कि पुलिस को इसे काबू करने के लिए फायरिंग करने पर मजबूर होना पड़ा. 

पुलिस फायरिंग में तीन लोगों की मौत हो गई. वहीं, एक अन्य शख्स घायल हो गया, जिसे अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है. इस हिंसा में 50 से अधिक पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. यह पूरी घटना शहर के डीजे हल्ली और केजी हल्ली इलाके की है. फिलहाल, किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस ने इलाके में कर्फ्यू लगा दिया है. वहीं, राजधानी बंगलूरू में धारा 144 लगा दी गई है. 

मंत्री सीटी रवि ने कहा, दंगे पूर्व नियोजित थे. पेट्रोल बम और पत्थरों का इस्तेमाल संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के लिए किया गया. 300 से अधिक वाहनों को फूंक दिया गया. हम संदिग्धों को जानते हैं, लेकिन जांच के बाद ही तस्दीक होगी. हम उत्तर प्रदेश की तर्ज पर दंगाइयों से ही नुकसान की भरपाई करवाएंगे. वहीं, कांग्रेस विधायक श्रीनिवासमूर्ति ने कहा कि, कल कुछ अज्ञात लोगों ने मेरे घर में भी आग लगा दी, पेट्रोल बम भी फेंके. पुलिस को मामले की जांच करनी चाहिए और दोषियों को खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. अगर एक विधायक के साथ ऐसा हो सकता है तो दूसरों का क्या होगा. मैंने गृह मंत्री, पुलिस अधिकारियों और पार्टी के नेताओं से बात की है. मुझे सुरक्षा मिले तो अच्छा रहेगा.

इस सबकी शुरुआत एक कथित भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट से हुई, जिसे कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के भतीजे नवीन ने पोस्ट किया था. हालांकि, स्थिति बिगडऩे पर इस पोस्ट को डिलीट कर दिया गया. इस कथित भड़काऊ पोस्ट को लेकर बड़ी संख्या में उपद्रवियों ने विधायक श्रीनिवास मूर्ति के बंगलूरू स्थित आवास पर तोडफ़ोड़ की. 

रात 9 बजे से उपद्रवियों की भीड़ जुटना शुरू हुई

भड़काऊ पोस्ट के बाद उपद्रवियों की भीड़ रात लगभग 9 बजे श्रीनिवास मूर्ति के घर और पूर्वी बंगलूरू के डीजे हल्ली पुलिस स्टेशन के बाहर एकत्र होने लगी. भारी भीड़ ने विधायक के घर पर तोडफ़ोड़ की और थाने को भी भारी नुकसान पहुंचाया. साथ ही आगजनी की घटना को भी अंजाम दिया गया. 

विधायक के घर के बाहर खड़ीं 30 गाडिय़ों में लगाई आग

देखते-देखते रात 10 बजे तक माहौल इस कदर गंभीर हो गया कि उपद्रवियों की भीड़ ने विधायक के घर में तोडफ़ोड़ करने के बाद उसे आग के हवाले कर दिया. इससे घर और बाहर खड़ीं लगभग 30 से ज्यादा गाडिय़ों में भयंकर आग लग गई. 

पुलिस पर पथराव के बाद, रात 12 बजे हुई फायरिंग

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और आक्रोशित भीड़ को समझाने की कोशिश की. लेकिन भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया. साथ ही पुलिसकर्मियों की पिटाई भी की. इस घटना में 60 पुलिसकर्मी घायल हो गए. हालात बेकाबू होते देख रात 12 बजे पुलिस ने फायरिंग की. इससे भीड़ तितर-बितर हो गई. 

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *