अमेठी।सीएससी के माध्यम से ई-स्टोर का लाभ उठाये ग्रामीण

दुर्गेश शर्मा की रिपोर्ट। भगीरथ प्रयास न्यूज नेटवर्क
जनपद अमेठी गौरीगंज कोरोना महामारी वा लॉकडाउन को लेकर गांव के लोगों को किसी भी परेशानी का सामना ना करना पड़े इसके लिए सीएससी ग्रामीण स्टोन का संचालन हुआ जिसे लोगों को सीएससी ई स्टोर से सामान मांगा सकते है ग्रामीण लोगों को सामान लेने में परेशानी ना हो रही थी इसको देखते हुए सरकार ने गांव में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई के लिए ग्रामीण ई स्टोर लांच किया है ग्रामीण स्टोर एक ऐप है जिसकी मदद से गांव में रहने वाले लोग अपनी जरूरत का सामान अपने घरों तक ऑनलाइन एप के माध्यम से मंगा सकते हैं सीएससी जिला प्रबंधक उमाशंकर त्रिपाठी ने बताया कि अब जिले की सभी ग्राम पंचायतों में यह सुविधा है आरंभ कर दी जाएंगी जिन सीएससी सेंटर पर किराना की सुविधा उपलब्ध थी उन्हें लाख गांव में किराना की होम डिलीवरी का कार्य सौंपा गया था ग्रामीण  के माध्यम से संबंधित क्षेत्र से सामान जैसे दूध सब्जी आदि मंगा सकते हैं उसके लिए सीएससी सेंटर ई स्टोर के 0 से 5 किमी परिधि तय की गई है सीएससी ई स्टॉप ऐप में लगभग 70000 प्रोडक्ट हैं जो भविष्य में उपलब्ध कराए जाने लगेंगे इसी कड़ी में मुंशीगंज के सीएससी संचालक राजेंद्र का कहना है कि वह अमेठी में निर्मित एवं पूरे भारत में प्रसिद्ध राजेश मसाले की भी अपूर्ति करके प्रधानमंत्री जी के वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा दे रहे हैं इलेक्ट्रॉनिक एवं आईटी मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देश में जिले के सभी ग्रामीण क्षेत्रों में सेवाएं शुरू कर दिए गए हैं जिससे ग्रामीण लाभांवित हो रहे हैं इस कार्यक्रम के लिए कॉमन सर्विस सेंटर से जुड़े 3.8 लाख विलेज लेवल इंटरप्रेन्योर्स की सहायता ली जाएगी सीएससी भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक एवं आईटी मंत्रालय के अधीन काम करता है सीएससी डिस्टिक मैनेजर उमाशंकर त्रिपाठी ने बताया कि यह ऐप लांच कर दिया गया है यह स्मार्ट फोन में गूगल प्ले स्टोर में उपलब्ध होगा ग्रामीण के सामान मंगवाने हुआ उनके घर तक पहुंचाने की जिम्मेदारी वीएलई की होगी इस ऐप पर सामान की कीमत को भी दर्शाया जाएगा और यह प्रयोग सफल भी हो रहा है सीएससी जिला प्रबंधक उमाशंकर त्रिपाठी ने बताया कि इस महामारी से निपटने के लिए लोगों को अपने मोबाइल में ई स्टोर एप डाउनलोड करना चाहिए जिससे  कोरोना जैसी महामारी से हम बच सकें और हमारी जरूरतमंद का सामान हमारे घर तक पहुंच सके!

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *